RIP Justice: Feminists shouted #HangTheRapist, Hon’ble Supreme Court obliged.

Describing as a “story of a different world”, today Hon’ble Supreme Court obliged feminists who shouted #HangTheRapist!!!

Media created imaginary porn stories, ‘Nirbhaya’! Feminists shouted #HangTheRapist, Hon’ble Supreme Court obliged.

The prosecution failed to prove anything, still, we are forced to believe the imaginary criminal incident to be true, just because sold and biased media, foreign-funded feminist NGOs wants us to believe so! Feminists shouted #HangTheRapist, Hon’ble Supreme Court obliged.

In this story, the juvenile was deliberately presented as most cruel as they had their agenda of ‘lowering the age of criminal responsibility in India’! Feminists shouted #HangTheRapist, Hon’ble Supreme Court obliged.

Hollow feminism has ruined the lives of our future kids for it’s paid agenda. Intentionally it was nowhere published that the juvenile was ‘Not’ the cruellest, when investigation even in this doctored case found the same, just because they wanted people to believe that juveniles have become criminal so that juveniles law can be amended! Feminists shouted #HangTheRapist, Hon’ble Supreme Court obliged.

Nirbhaya

Senior Advocate Sanjay Hegde, one of the two amicus curiae appointed by Supreme Court in the Nirbhaya case, has stated that the FIR, in this case, is a creature of an afterthought by the police and named accused were not even at crime spot! Also, read Sole eyewitness “seriously unreliable”! Feminists shouted #HangTheRapist, Hon’ble Supreme Court obliged.

Sentencing in Nirbhaya violates Articles 14, 21! Feminists shouted #HangTheRapist, Hon’ble Supreme Court obliged.

We are forced not to believe Advocate ML Sharma’s who declared to pay Rs 10 lakh award to the doctor or anybody who can prove as per medical science that without destroying the uterus, the intestines can be pulled out using an iron rod or post-mortem’s version that says the uterus and ovaries were intact and going by the human anatomy, if a rod is inserted into the vagina, it cannot reach the intestines without breaking the uterus; we are made to accept all illogical reasons shared to proclaim that all Indian men are potential rapists! The rod theory was added later just to sensationalise the whole case and also to provoke public anger! Feminists shouted #HangTheRapist, Hon’ble Supreme Court obliged.

Those not even involved died in jail or waiting to be hanged, are humans too! Here the point is not of ‘misuse of law’, but the ‘wrong law’. And today, these young guys are paying the price of hollow agenda of feminism! Tomorrow it could be anyone’s (including your’s) brother, son, friend, nephew engulfed in a fake case of wrong laws, still, #HangTheRapist? If Yes, beware, just based on media trial our Hon’ble Supreme Court won’t shy in obliging hollow feminists and send anyone to gallows.

Your choice….. You, your life, your respect, your liberty are at the bottom of list of priorities….

2nd UP+ State Meet, April 8th, 2017

 

DAMAN Welfare Society and PPKS are happy to announce 2nd UP+ State Meet on Men’s Issues to be organised in Kanpur, on 8th of April, 2017. The meet aims at providing an opportunity for activists from UP and nearby states to come together, discuss, coordinate and draw a sketch for the way forward for the activism and movement in this part of the country.

Venue: Gyan’s Vegetarian Banquet Hall, 111A/7, Ashok Nagar (G.T. Road), Kanpur

Timing: 9:30 AM to 5:00 PM

Contribution from participants is Rs. 500/- only per participant, towards the arrangements for a successful meet.

ticket-booking-blog

In case you need more information, contact details are mentioned below:

Name: Dheeraj Rajpal
Email: info@daman4men.in
Mobile: 7275048057

Please feel free to mail your suggestions at info@daman4men.in

वो कोई और नहीं मेरा दोस्त मनुज था

नमस्कार दोस्तों
मै रमन राणा, दामन हरियाणा संगठन का सदस्य व मिडिया प्रभारी आज फिर से अपनी एक रचना के साथ आप सब के समक्ष आया हूँ। मेरी पिछली रचना “मैंने दहेज़ नहीं माँगा” को आप सबने बहुत सराहा और वहीँ से मुझे प्रेरणा मिली एक और कविता लिखने की।
ये कविता किसी समाजिक बदलाव या पीड़ित पुरुष के बारे में नहीं है, बल्कि उस इंसान के बारे में है जिसकी वजह से आज हम लोग साथ हैं और एकजुट हैं।
“वो कोई और नहीं, वो मेरा दोस्त मनुज था”

ज़िन्दगी में एक बार कुछ ऐसे वक्त से मुलाक़ात हुई,
कुछ तजुर्बों और संघर्षो की मानो शुरुवात हुई।
कोई राह न मिली, कहाँ जाऊं, किसे खोजूं,
कैसे समस्या का हल निकालू, कैसे समाधान सोचूं।
तभी एक शख्स मिला, जिसके जीवन में भी संघर्ष था,
वो कितनों का चाहिता था, कितनों का आदर्श था,
हिम्मत, साहस और जूनून, उसके पास वो सबकुछ था,
“वो कोई और नहीं, वो मेरा दोस्त मनुज था”
Manuj 01
वो हमारे हकों के लिए हमेशा लड़ा था,
हर हालात, हर कठिनाई में भी हमारे साथ खड़ा था,
आखरी सफ़र भी उसका, हमारे लिए ही रहा,
न हमसे वो कुछ बोला, न हमसे कुछ कहा।
संघर्ष की दूसरी मिसाल तो यारों, वो खुद था,
“वो कोई और नहीं, वो मेरा दोस्त मनुज था”
वो कभी हमारा दोस्त बना, कभी अध्यापक बन गया,
छोटी सी उम्र में, दामन का वो संस्थापक बन गया।
मुश्किलों से लड़ने का जरिया वो हमे सदा सिखलाता था,
हम न समझते, तो भारी आवाज़ में समझाता था।
सीमाएं उसे न बाँध सकी, सिपाही वो अनिरुध था,
“वो कोई और नहीं, वो मेरा दोस्त मनुज था”
Manuj 13
अब सोचता हूँ काश, तुझे उस दिन पास न बुलाते,
अपने अपने शहर में रहकर ही सब पुरुष दिवस मनाते,
पर क्या पता था, ये हादसा हो जायेगा,
हमारे लिए किया सफ़र ही, तेरा आखरी बन जायेगा,
हर ख़ुशी तो मानो जैसे उस दिन से ही सोई है,
ये कविता लिखते-लिखते रमन की कलम भी रोई हैं।
हमारा भाई, मित्र, हमसफ़र, वो हमारा सबकुछ था,
“वो कोई और नहीं, वो मेरा दोस्त मनुज था”
“वो कोई और नहीं, वो मेरा दोस्त मनुज था”
पूरे दामन परिवार कि ओर से हमारे प्यारे भाई को श्रद्धांजलि स्वरूप…
दामन परिवार के हृदय में मनुज हमेंशा रहेगा…

यही मेरे भी प्यार के श्रद्धा सुमन हैं… रमन राणा…!!

DAMAN WhatsApp Policy

दामन का मानना है कि अगर 1947 में WhatsApp या Facebook रहा होता, तो कोई भी घर से न निकलता, केवल मैसेजिंग करता और साथ में लिखता कि इसे इतना फोरवर्ड करो कि अंग्रेज़ देश छोड़ कर चले जाएं… जो लड़ाई जमीनी है, वो जमीन पर ही लड़ी जा सकती है, WhatsApp और Facebook बहुत अच्छी चीजें हैं, कृपया इन्हें जरूरत भर ही इस्तेमाल करें और साप्ताहिक मीटिंगों में अपनी उपस्थिति सुनिश्चित करें….

Hi all,WhatsApp_Logo_1

Please read it and take it with utmost seriousness

  1. Daman WhatsApp groups are meant primarily for activism and secondly to assist members in the fight against gender-biased laws & their cases. Above everything else, to remove misandry from society. This is a self-help group for the sake of convenience and accessibility.
  1. We have certain conditions and guidelines, for all possible reasons, including the safety of members and to have defined & desired skill set.
  1. Our group does not support any paid model or transaction of money in return for support, but that doesn’t mean we are a disposable freebie.
  1. We’ve observed that members, who are local in cities where weekly meetings are organised, are least interested in joining meetings and on the contrary, are seeking everything from WhatsApp groups!
  1. We also add members who approach us through SIF-One or FB and do not have weekly meetings in their cities. We’ve been doing this as a helping gesture, who ever try to exploit, we check.
  1. SIF/Daman WhatsApp groups are meant to add maximum people and not to add same people in maximum groups.
  1. Members of our groups are required to satisfy following conditions:
    1. All local members will need to attend weekly meetings. (At least two meetings per month)
    2. Outside members are added only as counsellors, to guide victims.
    3. Victims living in other cities/states, attending meetings there, but have cases at Daman meeting locations can also be added once they get themselves recommended by some senior/counsellor/organiser of the weekly meeting they attend.
    4. All members, local or outsiders are required to fill this requisition form or send their following details at wa@daman4men.in, mentioning your name in the subject.
      1. Name
      2. Home city/town
      3. City/town where cases are
      4. Mobile number
      5. Contact number of at least one family member.
      6. A passport-size photo (optional)
      7. Reference
      8. Scanned copy of FIR or any petition of your’s or your opposite party.
    5. Any member added without details even in urgency, will be allowed only 5 days to furnish details.
    6. Please do not post any content which might deemed to be offensive towards any section of the society which includes, and is not limited to the relatives, in-laws, police, judiciary, and political parties.
    7. Please do not post any sensitive information pertaining to your case; and have long conversations on this forum about your case.
    8. Do not post jokes or any other material which is not related to our cause.
    9. Please do not post any material which might send out a wrong message or dissuade other members from being a part of our cause.
    10. Please make sure you put your full name in your Whatsapp profile, to be a part of / continue being a part of Daman group.
    11. Please make sure you update your Whatsapp regularly.
    12. In case of any questions regarding Daman group, please contact the moderators.
    13. If you are removed from this group, and before you contact a moderator personally, please try to analyse what went wrong on your part.
    14. New members, after joining the group, please provide brief details about your dispute, location, and full name on this group.
    15. As a basic SIF policy, neither any advocate nor discussions about advocates allowed in the group.
  1. Single objective of our groups is to fight gender biased laws in every possible manner, but recently we observed that only this is something which is mostly avoided! Does this leave any scope for such non-interested members to be in the group?
  1. Based upon the activity and effectiveness of an admin we change the role from time to time.
  1. @Admins, please don’t add any new faces if you don’t know the person or if he does not fulfil above mentioned conditions. Before adding anyone make him aware about the objective of this group and the rules mentioned above.
  2. Any unwanted forwards/content will lead to suspension from group, in the first instance! Any repeated violation of rule will lead to removal from the group (If everyone posts only one forwarded message per day, imagine the havoc group members will be in).
  3. Any sort of arrogance, personal direct attack in the group or on the personal message will not be tolerated; such conduct will be taken as rule violation and can lead to removal from the group, without notice as well.
  4. Kindly attend the weekly meetings regularly. There is NO Alternative for Learning, Sharing & Taking our Cause forward.
  5. In times of emergency, call our helpline number at 8882-498-498, single helpline number for men in distress in India.

 

Thanking you all in anticipation and expecting your cooperation.

मैंने दहेज़ नहीं माँगा

 

“मैंने दहेज़ नहीं माँगा”
 
साहब मैं थाने नहीं आउंगा,
अपने इस घर से कहीं नहीं जाउंगा,
माना पत्नी से थोडा मन मुटाव था,
सोच में अन्तर और विचारों में खिंचाव था,
पर यकीन मानिए साहब, “मैंने दहेज़ नहीं माँगा”
 
Eyes
मानता हूँ कानून आज पत्नी के पास है,
महिलाओं का समाज में हो रहा विकास है।
चाहत मेरी भी बस ये थी कि माँ बाप का सम्मान हो,
उन्हें भी समझे माता पिता, न कभी उनका अपमान हो।
पर अब क्या फायदा, जब टूट ही गया हर रिश्ते का धागा,
यकीन मानिए साहब, “मैंने दहेज़ नहीं माँगा”
 
परिवार के साथ रहना इसे पसंन्द नहीं,
कहती यहाँ कोई रस, कोई आनन्द नही,
मुझे ले चलो इस घर से दूर, किसी किराए के आशियाने में,
कुछ नहीं रखा माँ बाप पर प्यार बरसाने में,
हाँ छोड़ दो, छोड़ दो इस माँ बाप के प्यार को,
नहीं मांने तो याद रखोगे मेरी मार को,
बस बूढ़े माता पिता का ही मोह, न छोड़ पाया मैं अभागा,
यकींन मानिए साहब, “मैंने दहेज़ नहीं माँगा”
 
फिर शुरू हुआ वाद विवाद माँ बाप से अलग होने का,
शायद समय आ गया था, चैन और सुकून खोने का,
एक दिन साफ़ मैंने पत्नी को मना कर दिया,
न रहुगा माँ बाप के बिना ये उसके दिमाग में भर दिया।
बस मुझसे लड़ कर मोहतरमा मायके जा पहुंची,
2 दिन बाद ही पत्नी के घर से मुझे धमकी आ पहुंची,
माँ बाप से हो जा अलग, नहीं सबक सीखा देगे,
क्या होता है दहेज़ कानून तुझे इसका असर दिखा देगें।
परिणाम जानते हुए भी हर धमकी को गले में टांगा,
यकींन माँनिये साहब, “मैंने दहेज़ नहीं माँगा”
 
जो कहा था बीवी ने, आखिरकार वो कर दिखाया,
झगड़ा किसी और बात पर था, पर उसने दहेज़ का नाटक रचाया।
बस पुलिस थाने से एक दिन मुझे फ़ोन आया,
क्यों बे, पत्नी से दहेज़ मांगता है, ये कह के मुझे धमकाया।
माता पिता भाई बहिन जीजा सभी के रिपोर्ट में नाम थे,
घर में सब हैरान, सब परेशान थे,
अब अकेले बैठ कर सोचता हूँ, वो क्यों ज़िन्दगी में आई थी,
मैंने भी तो उसके प्रति हर ज़िम्मेदारी निभाई थी।
आखिरकार तमका मिला हमे दहेज़ लोभी होने का,
कोई फायदा न हुआ मीठे मीठे सपने सजोने का।
बुलाने पर थाने आया हूँ, छूप कर कहीं नहीं भागा,
लेकिन यकींन मानिए साहब, “मैंने दहेज़ नहीं माँगा”
 
“मैंने दहेज़ नहीं माँगा”
 
रमन राणा, दामन हरियाणा टीम का सदस्य कि झूठे दहेज के मुकदमों के कारण, पुरुष के दर्द से ओतप्रोत एक मार्मिक कृति…

TEXTBOOKS AND FEMINIST PROPAGANDA

Save Bengali Family

Textbooks are being used by feminist for Feminist propaganda among students in India.

dvvv

The National Council of Educational Research and Training (NCERT) was established in 1961, which was set up by the Government of India, with headquarters located at Sri Aurbindo Marg in New Delhi, to assist and advise the central and state governments on academic matters related to school education. The NCERT publishes textbooks for school subjects from Classes I to XII. NCERT Text-books are used in government and private schools across India that follow the CBSE curriculum. The Central Board of Secondary Education (CBSE) established in the year 1929, enjoys today the distinction of being one of the oldest and largest Board of Secondary Education in India. It has more than 16,000 affiliated schools in India and across 24 other countries of the world.

Hence the reach of NCERT Textbooks is large and feminist have used it as…

View original post 814 more words

अब तो घबरा के ये कहते हैं कि मर जाएंगे, मर के भी चैन ना पाया, तो किधर जाएंगे???

“अब तो घबरा के ये कहते हैं कि मर जाएंगे, मर के भी चैन ना पाया, तो किधर जाएंगे???”

हमारे देश में करीब 65,000  विवाहित पुरुष हर वर्ष आत्महत्या कर लेते हैं, दिनांक 30/03/2016 को भी एक लड़की से बात हुई, उसने बताया कि उसके भाई ने ससुराल वालों से परेशान होकर फांसी लगाकर, दिनांक 26/03/2016 को आत्महत्या कर ली है। उसका भाई, शादी के बाद से ही अपनी पत्नि और ससुराल वालों के कारण बहुत ज्यादा परेशान रहता था।

उसके आत्महत्या करने कि ख़बर दिनांक 27/03/2016 को कोटा, राजस्थान में अखबारों में भी प्रकाशित हुई थी।

Dainik Navajyoti Kota City1459021328Page-14

मृतक विपिन का सुसाइड नोट दिनांक 27/03/2016 को, कोटा के अखबार “दैनिक नवज्योति” में, के पृष्ठ 14 पर प्रकाशित हो चुका है, लिहाज़ा, अब यह कोई गोपनीय दस्तावेज़ नहीं है। हम यह सुसाइड नोट यहाँ जिसलिए साझा कर रहे हैं, इसका एक बड़ा कारण हैं, हमें रोज ही पीड़ित लड़कों सम्पर्क करते हैं, जिनमे लड़के अक्सर भावावेश में कहते हैं कि:

  1. मै बहुत परेशान हूँ, जी करता है कि आत्महत्या कर लूँ
  2. कानूनों में सुधार होना चाहिए, चाहे सरकार का ध्यान खींचने को मुझे आत्महत्या ही क्यों न करनी पड़े
  3. मैं आत्महत्या कर लूँगा, मुझसे मेरे माँता-पिता व परिवार की परेशानी नहीं देखी जाती
  4. अगर मैं आत्महत्या कर लूँ तो आप लोग मुझे न्याय दिलाइएगा
  5. मैं सरकार से इच्छा मृत्यु की माग कर रहा हूँ
  6. ………
  7. ……….. इत्यादि इत्यादि

सुसाइड नोट में लिखा है:

मैं काफी समय से मानसिक दबाव में चल रहा था। मेरी हैसियत नहीं थी कि मै प्रकाश नारायण, गरीमा शर्मा, विमल शर्मा, और गौरव शर्मा को निवासी 2H25 महावीर नगर विस्तार योजना कोटा (राज०) को 15 लाख रूपये दे पाता। इन लोगों ने झूठ बोलकर शादी की हमें फंसाया और इन चारो ने मिलकर हमारे घर में साजिशें की। जब से शादी हुई तब से ये लोग मुझे और मेरे परिवार को केस करने की धमकियाँ दे रहे थे। क्या मेरा अपराध ये था कि मेरा बाप नही था या फिर मेरे और मेरे परिवार ने इन लोगों की छानबीन नहीं की।

मै एक मेडिकल की दूकान पर नौकरी करता था। इन लोगों से आतंकित होकर मुझे नौकरी से हाथ धोना पड़ा। वर्तमान में इन लोगों ने खाने कमाने लायक भी नहीं छोड़ा। हमारे घर में इन लोगों की गुंडागर्दी और कोर्ट में भी इन लोगों की गुंडागर्दी।

इस गुंडागर्दी के दम पर केस भी अपने पक्ष में करवा लीये। और झूठे केसों में मुझे और मेरे परिवार को फंसा लिया। मेरे खुद की भी जान खतरे में थी और मेरा परिवार भी अब सुरक्षित नहीं है। उनकी ह्त्या भी हो सकती है।

आज दिनांक 24/3/016 को शाम को 4:30 लड़की का भाई गौरव शर्मा मेरे घर पर आया उसने मेरे भाई के साथ मारपीट भी की। और मेरी माँ को गाली-गलोच दी। इस घटना से मेरा परिवार काफी सदमे में है। और भयभीत भी है। ये लोग मुझसे पैसों कि माँग को लेकर मानसिक दबाव बना रहे थे। मेरी और मेरे परिवार की मुखबिरी हो रही थी। पता नहीं इन लोगों को क्या फायदा होने वाला था।

sd/-

विपिन शर्मा

कई लोगों को सुसाइड नोट में लिखे हालात बिलकुल अपने जैसे लगेंगे… लेकिन, गनीमत है कि इसे पढ़ने के लिए जीवित तो हैं…

प्रश्न यह नहीँ है कि मृतक विपिन ने सही किया, या गलत किया…

आपकी क्या राय है, इसका निर्णय आप करें। लेकिन हम यहाँ उन लोगों से पूछना चाहते हैं जो लोग आत्महत्या को हंसी खेल समझते हैं और मना करने के बावजूद बार बार कहते हैं कि:

  1. मै बहुत परेशान हूँ, जी करता है कि आत्महत्या कर लूँ
  2. कानूनों में सुधार होना चाहिए, चाहे सरकार का ध्यान खींचने को मुझे आत्महत्या ही क्यों न करनी पड़े
  3. मैं आत्महत्या कर लूँगा, मुझसे मेरे माँता-पिता व परिवार की परेशानी नहीं देखी जाती
  4. अगर मैं आत्महत्या कर लूँ तो आप लोग मुझे न्याय दिलाइएगा
  5. मैं सरकार से इच्छा मृत्यु की माग कर रहा हूँ
  6. ……
  7. ……. इत्यादि इत्यादि

हमारे देश में, इन्हीं सब समस्याओं को देखते हुए और यही सब सोचते हुए, हर वर्ष करीब 65,000 विवाहित पुरुष आत्महत्या कर लेते हैं। क्या किसी को भी जानकारी है, कि जिन लोगों ने आत्महत्या की है, उनकी समस्या का समाधान हो गया? कोई भी उदाहरण हो तो कृपया बताएं।

हम मरणोपरांत, किसी भी भाई की आलोचना नहीँ कर रहे हैं, अपितु जो और दुसरे लोग इस रस्ते का विचार रखते हैं, उन्हें रोकना चाहते हैं।

अपमान होने, मुकदमें होने, प्रताड़ित किए गए होने के कारण, क्या आत्महत्या करके हम अपने स्वाभिमान कि रक्षा करना चाहते हैं?

अपने परिवार कि परेशानी नहीं देखी जाती, आपके आत्महत्या करने से परिवार कि परेशानी खत्म हो जाएगी?

शुतुरमुर्ग भी रेत में सिर छिपाकर समझता है कि शिकारी से छिप गया है। क्या इस प्रकार आत्महत्या करना इसी परिधि में नहीं आता है?

“हम आत्महत्या कर लेंगे, घर वाले अपने समस्या अपने आप देख ही लेंगे”, यही सोचेंगे तभी आत्महत्या कर पाएँगे। क्या आपके बूढ़े माँता-पिता इसी लायक हैं? अगर आप खुद उनकी स्थिति को सोचने-समझने को तैयार नहीं हैं, तो आपको क्या अधिकार है किसी दुसरे व्यक्ति से, अपनी पत्नि से या ससुराल वालों से अपेक्षा करें कि, वो आपके बूढ़े माँता-पिता या परिवार के बारे में सोचें?

दूसरों ने, आपकी पत्नि ने या ससुराल वालों ने आपके माँता-पिता या परिवार को वो दुख या कष्ट दिए हैं, जिनका लड़ के निवारण किया जा सकता है, परन्तु जब आप आत्महत्या कर लेते है, तो आप खुद ही आपके माँता-पिता को, परिवार को, भाई-बहनों को, अपने ईष्ट मित्रों को अविस्मरणीय व बेहद असहनीय कष्ट देते हैं।

हमारे देश के कानून एकतरफा और अन्यायपूर्ण हैं, सही बात है। यह बात भी बिलकुल ठीक है कि अगर यह आत्महत्या, विपिन कि बजाय उसकी पत्नि ने की होती, तो विपिन और उसका पूरा परिवार अभी तक जेल में होता। लेकिन, क्योंकि आत्महत्या एक पति ने की है, अभी तक कोई कार्यवाही नहीं हुई है। तो क्या कार्यवाही ना होने के विरोध में एक और आत्महत्या होनी चाहिए?

कानूनों में परिवर्तन की आवश्यकता है, लेकिन जब हर वर्ष 65,000 आत्महत्याएं होने पर भी सरकार पर कोई फर्क नहीं पड़ा, तो क्या किसी एक के आत्महत्या करने से पड़ेगा? अगर नहीं, तो क्यों हम यह स्वीकार नहीं करते कि इन सब समस्याओं का एक मात्र उपाय, केवल और केवल अपनी लड़ाई को जीतकर, विरोधियों को झूठा व गलत साबित कर ही किया जा सकता है।

केवल यही एक मात्र रास्ता है जिससे आपके बूढ़े माँता-पिता, आपका परिवार भी सन्तुष्ट होगा और जब हमारे आंकड़े भी बोलेंगे कि हम सब सही थे और हमारे विरोधी गलत बने हुए कानूनों का इस्तेमाल कर रहे थे, तब सरकार पर भी दबाव बनेगा और सरकार को नारिवादी शक्तियों को दरकिनार कर, कानूनों में परिवर्तन करना ही पड़ेगा।

परन्तु, यह सब जीवित रहकर ही किया जा सकता है।

“अब तो घबरा के ये कहते हैं कि मर जाएंगे, मर के भी चैन ना पाया, तो किधर जाएंगे???”

सोचो बन्धुओं सोचो, अगर जीवित ही ना रहे तो अपनी इस लड़ाई में जीत का जश्न कौन मनाएगा…